ऑटो वाला का बेटा केसे बना देश का सबसे युवा IAS ? Ansar Shaikh

Ansar-Shaikh-IAS

UPSC (सिविल सेवा परीक्षा) देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक मानी जाती है। लाखों युवा इस परीक्षा देते हैं और केवल कुछ सौ ही अंत में सफलता पाते हैं । आज हम बात करेंगे देश के सबसे युवा IAS Ansar Shaikh के बारे मैं ,जोकि सिर्फ 21 साल के उम्र मैं सिविल सेवा परीक्षा मैं सफलता हासिल किए थे । उन्होंने पहले ही प्रयास में UPSC 2015 को पास कर लिया था उनका ALL INDIA RANK 361 था। बहुत से उम्मीदवार, सभी आराम और कोचिंग के बावजूद भी IAS परीक्षा को पास नहीं कर पाते हैं । लेकिन कुछ जोशीले मेहनती उम्मीदवार उनके खिलाफ ढेर सारी बाधाओं के बावजूद सफलता प्राप्त करते हैं।

कौन हे अंसार शैख़ ?

ansar-shaikh-ias
Ansar Shaikh Family

Ansar Shaikh, योनस शेख अहमद का पुत्र हैं , जो महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र के जालना के शेडगाँव गाँव का एक ऑटोरिक्शा चालक है।
अंसार की अम्मी ने खेतों में काम करके उन्हें पढ़ाया हे । छोटे भाई अनीस ने सातवीं तक स्कूल मैं पढ़ पाया । अनीस परिवार की मदत करने के लिए एक छोटीसी गैरेज में काम किया और इसका इनाम 2015 उन्हें मिला। उनका भाई upsc क्रैक करके देश का सबसे युवा IAS बन गए ।

मुस्लिम होने की वजह से उन्हें पुणे शहर में रहने के लिए घर नहीं मिल पा रहा था। उन्होंने दैनिक जागरण को बताया कि इस बात का ध्यान रखते हुए उन्होंने अपना नाम शुभम बताने लगे । नाम बदलने के बाद उन्हें आसानी से पीजी मिल गया।

उनकी घर के बहुत बुरे हाल था। उन्हें पढाई छोड़ ने के लिए बोलै जा रहा था। उन्होंने बताया कि घर के हालात खराब होने की वजह से रिश्तेदारों और उनके अब्बा ने उनसे पढ़ाई छोड़ने को कहा। ये कहने उनके अब्बा स्‍कूल भी चले गए लेकिन उनके टीचर ने ऐसा करने से मना कर दिया। टीचर ने उनके अब्बू को समझाया कि वह पढ़ाई में बहुत अच्छे हैं । तब जाकर वह किसी तरह दसवीं पूरा किया । इसके बाद अंसार शैख़ ने 12वीं कक्षा में 91 फीसद अंक हासिल किया था। जब 12वीं क्लास में 91 % अंक हासिल किए तो घरवालों ने फिर कभी उन्हें पढ़ाई के लिए नहीं रोका।

Ansar Shaikh ने अपनी सफलता पर कहा की “कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। उनके के संघर्ष के दौरान, उनका दोस्तों ने उन्हें मानसिक और आर्थिक रूप से बहुत ज्यादा मदद किया और यहां तक ​​कि उनका कोचिंग अकादमी ने उनका खराब स्थिति के कारण फीस का एक हिस्सा माफ कर दिया। ”

उन्होंने यह भी बताया कि उनकी दो बहनों की शादी छोटी सी उम्र में ही करदी गई थी। उनके घर में पढ़ाई का कोई माहौल नहीं था। घर में जब उन्होंने सिविल सर्विसेज परीक्षा पास करने की बात बताई तो सब के सब हैरान हो गए।

फिलहाल वह पश्चिम बंगाल सरकार मैं काम कर रहे हैं। जब कोई चीज़ को पाने के लिए मेहनत किआ जाये तो एक दिन वो चीज़ आप को जरूर मिलेगा।

अंसार शैख़ की येह किसा आप को किसी लगी हुम्हे जरूर बतायें

और मोटिवेशनल कहानी के लिए क्लिक करैं

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here