चीन धोखेबाज, युद्ध के वक्त सब देखेंगे अपना राष्ट्रहित, भारत लिए कोई नहीं भेजेगा सैन्य मदद- बोले पूर्व विदेश मंत्री

BJPs Ex Leader and former Foreign Minister Yashwant Sinha calls China rogue state says it specialises in grabbing other country's territory: चीन धोखेबाज, युद्ध के वक्त सब देखेंगे अपना राष्ट्रहित, भारत लिए कोई नहीं भेजेगा सैन्य मदद- बोले पूर्व विदेश मंत्री

भारत के पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा नेता रह चुके यशवंत सिन्हा ने सीमा विवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि चीन एक दुष्ट और धोखेबाज देश है। वह सिर्फ एक साम्राज्यवादी देश है, जो दूसरे देशों की जमीन हड़पने में आगे है। सिन्हा ने कहा कि चीन बल प्रयोग कर के हमारी जमीन लेने की कोशिश करेगा। इसलिए हमें तैयार रहना होगा। सिन्हा ने कहा कि जब भी भारत और चीन के मंत्रियों की चर्चा के बाद साझा बयान जारी होते हैं, उनका कोई मतलब नहीं है। भारत को मजबूती से अपनी स्वायत्ता की रक्षा करनी होगी।

पूर्व विदेश मंत्री ने कहा कि भारत के पड़ोस में दूसरा धोखेबाज दोस्त है पाकिस्तान, इसलिए चीन और उसकी खूब जमती है और वे मिलकर भारत को परेशान करते हैं। सिन्हा ने कहा कि बातचीत से कोई फायदा नहीं होगा, क्योंकि चीनी सेना के रवैये से लगता है कि वह हमें लद्दाख या एलएसी के किसी अन्य हिस्से से परेशान करेगा।

उन्होंने कहा कि मेरी आत्मकथा में चीन के बारे में एक लाइन है, जिसमें कहा गया है कि जहां दोनों देश सहयोग कर सकते हैं आपसी फायदे के लिए, जहां भारत के लिए चीन से प्रतिस्पर्धा करना जरूर है, वहां प्रतिस्पर्धा हो। लेकिन जहां चीन के खिलाफ मजबूती से खड़े होने की बात हो, वहां मजबूती से डटे रहें।

यशवंत सिन्हा ने कहा कि हमारे पड़ोस और दुनियाभर के सभी देश राष्ट्रहित के बारे में पहले सोचते हैं। जहां भारत चीन की बेल्ट एंड रोड परियोजना का हिस्सा नहीं बना, वहीं बाकी सब देश इसका हिस्सा बनते चले गए। यानी कोई भी हमारी बात नहीं सुनेगा। अगर बयान जारी करने की बात हो तो अमेरिका समेत सभी लोग अपने राष्ट्रहित के मुताबिक बयान जारी करेंगे। लेकिन भारत और चीन के बीच अगल सैन्य युद्ध हुआ तो कोई भी देश सैन्य मदद नहीं देगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here