लॉकडाउन नहीं होता तो चली जातीं 78 हजार अतिरिक्त जानें, 29 लाख तक कम रहे मामले; संसद में बोले स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को लोकसभा में कोरोना वायरस के खिलाफ सरकार के प्रयासों की जानकारी दी। उन्होंने संसद में कहा कि अगर लॉकडाउन नहीं लगाया जाता तो देश भर में आज कोरोना वायरस के कारण जो स्थिति है वह और भयानक हो सकती थी। लॉकडाउन के कारण देश मे कोरोना वायरस संक्रमण के 29 लाख मामलों को रोका जा सका है। यह बात कोई कम महत्वपूर्ण बात नहीं है।

हर्षवर्धन ने दोहराया कि सरकार का लॉकडाउन का निर्णय ‘साहसिक’ था। इसने देश में कोरोना के लगभग 14 से 29 लाख मामलों को कम कर दिया और 37,000 से 78,000 लोगों की जिंदगियों को बचाया। डॉ. हर्षवर्धन ने संसद में कहा, देश में कोरोना के संक्रमण की दर कम है। सरकार भारत में कोविड-19 के नए मामले और मौतों पर रोक लगाने में कामयाब रही है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत में हर 10 लाख लोगों पर 3328 लोग कोरोना के संक्रमण की जद में आ रहे हैं। जबकि प्रति 10 लाख लोगों पर मौत का आंकड़ा 55 है। दुनिया में कोरोना का प्रकोप झेल रहे देशों में यह सबसे कम है।

बता दें कि स्वास्थ्य मंत्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब देश में पिछले कुछ दिनों से रोजाना एक लाख के करीब कोरोनोवायरस के मामले सामने आ रहे हैं। देश में अब तक कोरोना से 48 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। इस महामारी के कारण करीब 80,000 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत COVID-19 से दूसरा सबसे ज्यादा प्रभावित देश है।

इससे पहले डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, भारत में 11 सितंबर तक नोवेल कोरोना वायरस के कुल 45,62,414 मामले आए थे और 76,271 लोगों की संक्रमण से मृत्यु हो चुकी थी। संक्रमण से मृत्यु दर 1.67 प्रतिशत है। अब तक 35,42,663 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं। यह संख्या कुल मामलों का 77.65 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि संक्रमण और उससे मौत के सर्वाधिक मामले मुख्यत: महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, ओडिशा, असम, केरल और गुजरात से आए हैं।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘इन सभी राज्यों में मामलों की संख्या अलग-अलग एक लाख से अधिक है।’ हर्षवर्धन ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या 2.79 करोड़ से ज्यादा है। संक्रमण से 9.05 लाख से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है। उन्होंने कहा कि दुनिया में संक्रमण से मृत्यु की दर 3.2 प्रतिशत है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। में रुचि है तो



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई






Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here